व्हाट्सएप पर शंभूलाल रैगर का समर्थन करने वाले गिरफ़्तार होंगे: पुलिस

यहाँ से शेयर करें
  • 648
    Shares

राजस्थान के राजसमंद में क़त्ल का वीडियो बनाकर वायरल करने वाले शंभूलाल रैगर का समर्थन करने वालों को पुलिस गिरफ़्तार करेगी. राजसमंद हत्याकांड के बाद राजसमंद और उदयपुर के कुछ व्हाट्सएप ग्रुपों में शंभुलाल की जय जयकार की गई है.

राजस्थान पुलिस का कहना है कि शंभूलाल का समर्थन करने वाले लोगों को चिन्हित किया जा रहा है और अगले एक-दो दिनों में उन्हें गिरफ़्तार कर लिया जाएगा. उदयपुर के पुलिस महानिरीक्षक आनंद श्रीवास्तव ने बीबीसी संवाददाता दिलनवाज़ पाशा से कहा, “जघन्य अपराध करने वाले शंभूलाल का समर्थन कुछ व्हास्टएस ग्रुपों में किया गया है.

हम धार्मिक उन्माद भड़काने वालों की पहचान कर रहे हैं. अगले एक-दो दिनों में गिरफ़्तारियां की जाएंगी.”
‘अफ़राजुल की ग़लती थी कि वो मज़दूर थे, मजबूर थे, मुसलमान थे’

‘अफ़राज़ुल के हत्यारे को जलाना, मारना नहीं चाहते’

शंभूलाल ने पश्चिम बंगाल के मालदा से आए प्रवासी मज़दूर मोहम्मद अफ़राजुल की धारधार हथियार से कथित तौर पर हत्या कर उन्हें आग लगा दी थी. घटना का वीडियो बनाकर उन्होंने सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था.

आनंद श्रीवास्तव स्वीकार करते हैं कि सोशल मीडिया की वजह से तनाव बढ़ रहा है और ऐसे वीडियो को वायरल होने से पहले रोकना मुश्किल होता जा रहा है. वो कहते हैं, “हमारे पास जो क़ानूनी शक्तियां हैं उनके तहत हम वीडियो वायरल होने के बाद इसके पीछे जो लोग हैं.

उन्हें गिरफ़्तार तो कर सकते हैं, लेकिन वीडियो को वायरल होने से नहीं रोक सकते.”
राजस्थान वीडियोः “जानवर भी इंसानों से बेहतर हैं”