मुस्लिम नौजवान मुम्बई सिरियल बलास्ट के आरोप से बरी- मीडिया अब क्यों नहीं बता रही आंतकवादी था या नहीं

यहाँ से शेयर करें

मुम्बई : 13 जुलाई 2011 को मुंबई के ज़वेरी बाजार ऑपेरा हाउस और दादर इलाके में हुए सिलसिलेवार बम विस्फोट बनाम 13/7 बम धमाकों के मामले में अब्दुल वाहिद सदी को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया था अब्दुल वाहिद सदी, बापा नामक मुस्लिम युवक को मुंबई की विशेष मकोका अदालत ने अपर्याप्त सबूत के आधार पर बरी किए जाने का आदेश जारी किया है

न्यायाधीश वी वी पाटिल ने आरोपियों को कानूनी सहायता प्रदान करने वाली संस्था जमीयत उलेमा महाराष्ट्र के वकील एडवोकेट शरीफ शेख के तर्क से सहमत थे कि आरोपी का इस मामले से कोई लेना देना नहीं है और न ही वह इस मामले के अन्य आरोपियों को जानता है और न ही वह इंडियन मुजाहिदीन का सदस्य है इस के ऊपर कोई अपर्याप्त सबूत न होने के कारण इस को अदालत बरी करती है।

आपराधिक कानून की धारा 169 के तहत दायर की गई याचिका पर अभियोजन पक्ष उज्जवल निकम ने अपने रुख जताते हुए अदालत को बताया कि खोजी दस्तों की आरोपी से जांच पूरी हो चुकी है और उन्होंने आरोपी के खिलाफ कोई सबूत नहीं पाया है इसलिए उन्हें आरोपी की द्वारा दर्ज किये याचिका पर कोई आपत्ति नहीं है।

अब्दुल वाहिद मुकदमा से सम्मानजनक रिहाई पर मसर्रत लहजे में सचिव कानूनी सहायता समिति गुलजार अहमद आजमी ने कहा कि यह जमीअत उलेमा के वकीलों की एक बड़ी सफलता है कि उनके प्रयासों से आरोपी पर आरोप लगने से पहले ही उसे मुकदमा से बाइज़्ज़त बरी करा लिया गया।

गुलजार अहमद ने कहा कि इंशा अल्लाह भटकल के रहने वाले अब्दुल वाहिद की भी इस मामले में गिरफ्तार अन्य आरोपियों को भी जल्द रिहाई नसीब होगी। गुलजार आजमी ने कहा कि अब्दुल वाहिद के मुकदमा से सम्मानजनक रिहाई से यह साबित होता है कि कैसे एटीएस बिना किसी पुख्ता सबूत के मुस्लिम युवाओं को परेशान करती है और उन्हें हिरासत में लेकर पिटाई करती है।