सुसाइड बॉम्बिंग क्यों है इस्लाम के सिंद्धान्तों से परे

यहाँ से शेयर करें

एक जरुरी जानकारी:- हाल ही में कुछ दिनों पहले सुसाइड बॉम्बिंग के कई घटनाये देखने में आई जिनका जिम्मेदार घटना को अंजाम देने वालों की वजाए घटना का जिम्मेदार मुसलमानो या इस्लाम को बना दिया जाता है, जब की घटना को अंजाम देने वाला खुद इस्लाम के सिंद्धान्तों के खिलाफ है.

किसे कहते है मुसलमान

आप लोगों को सबसे पहले यह पता होना चाहिए की मुस्लमान कौन होता है, इस्लाम के सिद्धांत यानि के पैगम्बर मोहम्मद साहब के वताये हुए रास्ते पर चलने वाले को मुसलमान कहते है. क्यों है सुसाइट बोम्बिंग इस्लाम के सिंद्धान्तों के खिलाफ सबसे पहले तो नज़र डालते है उस हक़ीक़त भरी कहानी (हदीस) पर जो मोहम्मद पैगम्बर साहब के ज़माने में पेश आई इस्लाम के शुरूआती हिस्से में कई जंग (युद्ध) हुई जिसमे से एक जंग जंग-ए-उहद के नाम से जानी गई.

इस जंग के मौके पर पैगम्बर मोहम्मद साहब जो की इस्लाम को दुनिया में लेकर आये उन्होंने अपनी तलवार ऊपर उठाते हुए अपने सहाबियों (जो पैगम्बर साहब के साथ रहते थे) से पूछा की कौन है जो मेरी तलवार का हक़ अदा कर सकता है?
जिस पर कोई सहाबी आगे न बड़े जिसके बाद एक सहाबी जो मोहम्मद साहब के क़रीबियों में शुमार रहते थे जिनका नाम हजरत उमर था.

वह सबसे पहले यह सोच कर आगे बड़े की मोहम्मद पैगम्बर साहब की तलवार उन्हें मिल जाये, मगर मोहम्मद साहब ने आवाज लगाकर दूसरे सहाबी हजरत सिम्माक इब्न खरिसा राजी0 दी और कहा कि यह तलवार तुम रख सकते है
जिस पर सहाबी हजरत सिम्माक की ख़ुशी का ठिकाना न रहा.

और मोहम्मद पैगम्बर साहब से कहा कहा,की इस तलवार का क्या हक़ है में इस तलवार हक़ किस तरह अदा कर सकता हूँ? जिस पर मोहम्मद पैगम्बर साहब ने 4 बातों को बहुत ही शक्ति से बताया की तलवार कभी भी

1. बूढ़ों पर न उठे
2.बच्चों पर न उठे
3.औरतों पर न उठे
4.और उनपर जिसने हथियार डाल दे

1.बूड़ो पर न उठे
आज हो रही सुसाईट बोम्बिंग की घटनाओं में बूढ़े और उम्र दराज़ लोगो की मौत हो रही है.

2.औरतों पर न उठे
आज हो रही सु साईट बोम्बिंग की घटनाओं के वीडियो और फोटोग्राफ सामने आते है तो पता चलता है की मरने वालों ज्यादातर महिलाएं होती हैं.

3.बच्चों पर न उठे
यह बात सही है जहाँ औरतें होगी वहा बच्चे बी अधिक होंगे.

4 जो हथियार डाल दे
अब हकीकत आप लोगों के सामने है जब किसी ने आप के खिलाफ हथियार उठाया ही नहीं है तो आप उस शख्स को नहीं मार सकते आप उस पर हमला नहीं कर सकते.

जो इन उसूलों को नहीं मानता वह किसी बी तरह से मुसलमान कहलाने लायक नहीं है. ऐसे लोगो का कोई मजहब नहीं है
इन बातों पर गौर करते हुए मुस्लिम धर्मगुरु उलेमाओं ने इन लोगो को मुस्लिम विरोधी और अमन शांति के मजहब इस्लाम का दुश्मन बताया है.

मगर इन सब घिनोनी हरकतों के पीछे की वजह को जानने के लिए आप को और हम को अपने आँखों पर बंधी पट्टी को हटाना होगा और इन सब घिनोनी घटनाओं की वजह का दुनिया की मिडिया को खंडन करना होगा जिससे सु साइट बोम्बिंग जैसी घटनाओं की असल वजह लोगों तक पहुच सके.

यह भी पढ़ें:- डॉ. जाकिर नाइक ने टाइम्स नाउ और अर्नब गोस्वामी पर किया 500 करोड़ का
विडियो वायरल -: पेड़ पर नमाज अदा करती नजर आ रही हैं एक महिला
नमाज़ है एक बेहतरीन किस्म का योग – वैज्ञानिकों का दावा
मुस्लिमो की हिफाज़त ख़ातिर सिख समुदाय हथियारों से लेस होकर आया सामने

दालचीनी और दूध से शरीर को सभी बीमारियों से दूर कैसे रखें यहाँ जानें

केले और गरम पानी से वजन कैसे कम करें