हज हाउस में महिलाओं से की गई अभ्रदता, उतरवाए गए बुर्के

यहाँ से शेयर करें
गाजियाबाद। हज हाउस के उद्धाटन कार्यक्रम में मुस्लिम महिलाओं के साथ में अभ्रदता किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। कुछ महिलाओं का कहना है कि वो सीएम अखिलेश यादव और नगर विकास मंत्री आजम खान के भाषण को सुनने के लिए आए थे। लेकिन सुरक्षा जांच के नाम पर पुलिस के जवानों ने महिलाओं से अभ्रदता की और उनके बुर्के भी उतरवाए। पूरे मामले को लेकर अफसरों ने
चुप्पी साध ली है।

सूत्रों के मुताबिक सोमवार को दिल्ली, गाजियाबाद समेत पश्चिमी यूपी के अल्पसंख्यक समाज के लोग हज हाउस को देखने के लिए पहुंचे थे। सभी लोगों को मालूम था कि सोमवार को सीएम इसका उद्घाटन करेंगे। इसके लिहाज से सब पहले से तैयार होकर आए थे। लेकिन हज हाउस पहुंचने पर मुस्लिम महिला का पुलिस ने दुपट्टा और नकाब उतरवाकर बेअदबी की। पर्दे के लिए महिलाओं द्वारा ओढ़े गए काले दुपट्टे उतरवाए जाने से महिलाओं में नाराजगी देखने को मिली।

सिटी मजिस्ट्रेट को भी आया चक्कर

उत्तर प्रदेश मुख्य मंत्री अखिलेश यादव द्वारा हज हाउस लोकर्पण के कार्यक्रम के दौरान ड्यूटी पर तैनात नितिन मदान उप जिला मजिस्ट्रेट को चक्कर आ गया और वो बेहोश होकर जमीन पर गिर गए। जिसके बाद पुलिस और अन्य अधिकारियों ने उन्हें उठाया और पानी पिलाया। जिसके बाद उनकी हालात अब ठीक बताई जा रही है।

एसएसपी का कहना

एसएसपी गाजियाबाद के सुनील एमानुएल के मुताबिक इस तरीके की कोई शिकायत पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को नहीं मिली है। अगर शिकायत मिलती है तो नियम के हिसाब कार्रवाई की जाएगी। बाकि किसी भी पुलिस कर्मी ने जानबूझकर महिलाओं को अपमानित करने का प्रयास नहीं किया। #source